Uncategorized

शोसल मीडिया की अराजकता को नियंत्रित करने की आवश्यकता:अजय तिवाड़ी।

शोसल मीडिया की अराजकता को नियंत्रित करने की आवश्यकता: उत्तर प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री योगी जी की कार्यशैली की तारीफ की जानी चाहिए, वे हर उस बिषय को गम्भीरता से लेते हैं जो समाज, प्रदेश और देश हित को प्रभावित करते हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शासनादेश निकाल कर प्रदेश के सभी सरकारी कर्मचारी/अधिकारियों को बिना जिम्मेदारी के सोशल मीडिया पर बयान जारी करने पर सख्त पाबंदी लगा दी है , उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार का यह फैसला अनुकरणीय है तथा भविष्य में दूसरे प्रदेशों में यह फैसला नजीर बनेगा यह तय है। वहीं सरकारी कर्मचारियों के साथ ही आमजन को भी सोशल मीडिया के उपयोग उसमें प्रसारित सामग्री के सम्बन्ध में जिम्मेदारी तय करने की नितांत आवश्यकता हो गई है। आज सोशल मीडिया का उपयोग अफवाह फैलाने, असत्य तथा आपत्तिजनक सामग्री के प्रसारण में बेरोकटोक किया जा रहा है। अभिव्यक्ति की आज़ादी के मायने आराजकता बिल्कुल नही हो सकती, आप की अभिव्यक्ति की सीमा है और उससे बाहर देश के विरुद्ध राजनीतिक लोगों के विरुद्ध सामाजिक समरसता को बिगाडने, भ्रामक तथा असत्य सामग्री परोसने के साथ ही अनैतिक सामग्री प्रसारित करने पर भी कठोर से कठोर कानून बनाया जाना चाहिए जिससे कि कोई भी व्यक्ति देश अथवा देश के बाहर से इस प्रकार के कुकृत्यों को करने से पहले सौ बार सोचे। दुर्भाग्य से आज सोशल मीडिया का इस प्रकार से उपयोग बढ़ रहा है जो बेहद चिंताजनक पहलू है। विगत लोक सभा चुनाव में आरक्षण समाप्त करने, कोविड वैक्सीन पर झूठ फैलाकर सोशल मीडिया को इसके लिए उपयोग किया गया और निश्चित रूप से इसका असर विगत लोकसभा चुनाव में सत्ता रूढ पार्टी को इस झूठे भ्रामक प्रचार से बहुत हानि उठानी पडी़। सोशल मीडिया देश के बाहर से देश के खिलाफ काम करने वालों के लिए प्लेटफार्म ना बनने पाये इसके लिए भारत सरकार तथा राज्यों की सरकारों को कठोर निगरानी तंत्र विकसित करने के साथ विभिन्न सोशल मीडिया संस्थानों के साथ विमर्श करना होगा तथा उन्हें स्वैच्छिक रुप से इस प्रकार के कृत्यों पर नियंत्रण और प्रतिबंध निगरानी प्रणाली स्थापित करने के लिए कहना होगा, इसके साथ ही सोशल मीडिया उपयोगकर्ता के लिए नियमों के विपरीत काम करने पर कठोर से कठोर कानून बनाकर उनको कानून का भय दिखाकर सोशल मीडिया को स्वच्छ ,पारदर्शी,तथ्यात्मक सूचनाओं तथा जनसम्पर्क का बेहतर माध्यम बनाना होगा जिससे सोशल मीडिया का सदुपयोग सुनिश्चित हो ना कि दुरूपयोग।। ऐ. के.तिवाड़ी।।।।।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button

Adblock Detected

Please Disable Your Adblocker !